Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Lyrics In Hindi

Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Lyrics In Hindi: is latest Hindi song sung by Rahgir with music is given by Shubhodeep Roy while Kachha Ghada song lyrics are written by Rahgir. Get Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Song Information

Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Lyrics

Ek kachha ghada hu main, Ek kachha ghada hu main, Fir bhi barsaat mein, Khada hu main.
Boonde bereham hai, Unko yeh vehem hai, Ki main toot raha hu, Jo main cheekh raha hu.
Par wo bewakoof hai, Main to seekh raha hu, Aise pehle bhi lada hu main, Ek kachha ghada hu main.
Hum wo hai jo kismat ke, Chanton ke shor pe nachte hai, Hum wo hai jo kismat ke, Chanton ke shor pe nachte hai.
Jitni jor ka chanta, Hum utni jor se nachte hai.
Ye jo khisak khisak ke, Main aage ja raha hu, Ye jo fisal fisal ke, Main piche aa raha hu.
Ye jo pighal pighal ke, Main behta ja raha hu, Ye jo sisak sisak ke, Main aahe aa raha hu.
Niche hai khaiyaan, Aur main kaanp raha hu, Par zinda hu abhi, Abhi haf raha hu.
Aise pehle bhi chadha hu main, Ek kachha ghada hu main.
Ek to raahon mein babool bahut hai, Uske upar se apne usool bahut hai, Uske upar se log tokte rehte hai, Ke rahgir bhai udhar jao, udhar phool bahut hai.
Ye jo hans rahi hai duniya, Meri nakamiyon pe, Tane kas rahi hai duniya, Meri nadaniyon pe.
Par main kaam kar raha hu, Meri sari khamiyon pe, Kal ye marenge taali, Meri kahaniyon pe.
Kal jo badlegi hawa, Ye saale sharmayege, Humare apne ho kehke, Ye baahe garmaayenge.
Kyonki ziddi bada hu main, Ek kacha ghada hu main, Fir bhi barsaat mein, Khada hu main.
Boonde bereham hai, Unko ye vehem hai, Ki main toot raha hu, Jo main cheekh raha hu.
Par wo bewakoof hai, Main to seekh raha hu, Aise pehle bhi lada hu main, Ek kacha ghada hu main.
Written by: Rahgir

Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Lyrics In Hindi

एक कच्चा घड़ा हूँ मैं, एक कच्चा घड़ा हूँ मैं, फिर भी बरसात मे, खड़ा हूँ मैं|
बूंदे बेरहम है, उनको यह वहम है, कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ|
पर वो बेवकूफ है, मैं तो सीख रहा हूँ, ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं, एक कच्चा घड़ा हूँ मैं|
हम वो है जो किस्मत के, चांटों के शोर पे नाचते है, हम वो हैं जो किस्मत के, चांटों के शोर पे नाचते है|
जितनी जोर का चांटा, हम उतनी जोर से नाचते हैं|
ये जो खिसक खिसक के, मैं आगे जा रहा हूँ, ये जो फिसल फिसल के, मैं पीछे आ रहा हूँ|
ये जो पिघल पिघल के, मैं बहता जा रहा हूँ, ये जो सिसक सिसक के, मैं आहे आ रहा हूँ|
नीचे है खाइयां, और मैं कांप रहा हूँ, पर जिंदा हूँ अभी, अभी हफ रहा हूँ|
ऐसे पहले भी चढ़ा हूँ मैं, एक कच्चा घड़ा हूँ मैं|
एक तो राहों में बबूल बहुत है, उसके ऊपर से अपने उसूल बहुत है, उसके ऊपर से लोग टोकते रहते है, के राहगीर भाई उधर जाओ उधर फूल बहुत है|
ये जो हंस रही है दुनिया, मेरी नाकामियों पे, ताने कस रही है दुनिया, मेरी नादानियों पे|
पर मैं काम कर रहा हूँ, मेरी सारी खमियों पे, कल ये मारेंगे ताली, मेरी कहानियों पे|
कल जो बदलेगी हवा, ये साले शरमाएंगे, हमारे अपने हो कहके, ये बाहे गरमाएंगे|
क्योंकि जिद्दी बड़ा हूँ मैं, एक कच्चा घड़ा हूँ मैं, फिर भी बरसात मे, खड़ा हूँ मैं|
बूंदे बेरहम है, उनको यह वहम है, कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ|
पर वो बेवकूफ है, मैं तो सीख रहा हूँ, ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं, एक कच्चा घड़ा हूँ मैं|
लेखक: Rahgir
If Found Any Mistake in above lyrics?, Report using contact form with correct lyrics!
Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Lyrics In Hindi

Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya) Song Info:

Song: Kachha Ghada (Ye Jo Hans Rahi Hai Duniya)
Singer(s): Rahgir
Musician(s): Shubhodeep Roy
Lyricist(s): Rahgir
Label(©): Rahgir
Scroll to Top